MGNREGA wage rate 2024-25: विभाग ने जारी की नई मनरेगा मजदूरी रेट, जानें किस राज्य में कितनी दर

नरेगा योजना भारत सरकार की सबसे लोकप्रिय योजनाओं में से एक है। हर वर्ष ग्रामीण विकास मंत्रालय भारत सरकार के द्वारा यह लिस्ट जारी की जाती है। यह मजदूरी दर अलग अलग राज्यों में अलग अलग प्रकार से दी जाती है। कुछ राज्यों में कम है तो कुछ राज्यों में तुलनात्मक रूप से अधिक है।

आप ग्रामीण विकास मंत्रालय भारत सरकार की ऑफिशियल वेबसाइट की मदद से मनरेगा मजदूरी रेट की पीडीएफ को डाउनलोड कर सकते है। लेकिन बहुत से लोगों को यह नहीं पता है की किस प्रकार से इस दर को चेक करना है इसलिए इस आर्टिकल में हम आपको इसकी जानकारी देंगे।

MGNREGA wage rate

नरेगा योजना के तहत सरकार नागरिकों को 100 दिन का रोजगार गारंटी के साथ देती है। इस रोजगार के साथ लाभार्थी को प्रतिदिन के हिसाब से मजदूरी दी जाती है। यह राशि सीधे बैंक खाते में डीबीटी के माध्यम से ट्रांसफर की जाती है। इसलिए आपके पास आपका बैंक खाता होना जरूरी है जिसमें आपका आधार कार्ड लिंक होना जरूरी है।

मजदूरी केवल उन्हीं लोगो को दी जाती है जिनके पास जॉब कार्ड है और जो इस योजना के लिए पात्र है। अगर आपने पास जॉब कार्ड नहीं है तो आपको इसके लिए आवेदन करना होगा। हर हफ्ते या हर महीने के हिसाब से बैंक खाते में राशि ट्रांसफर की जाती है।

सबसे कम और सबसे अधिक मनरेगा मजदूरी

जैसा की हमने आपको बताया की नरेगा योजना के तहत दी जाने वाली मजदूरी दर अलग अलग राज्यों में अलग अलग प्रकार से है। नई सूची के अनुसार सबसे कम मजदूरी दर अरुणाचल प्रदेश और नागालैंड की है जहां पर 234 रुपए प्रतिदिन है। सबसे अधिक दर हरियाणा में है जहां पर 374 रुपए प्रतिदिन है।

यह मजदूरी दर ग्रामीण विकास मंत्रालय भारत सरकार के द्वारा जारी की जाती है। नीचे अलग अलग राज्यों की दर विस्तार से दी गई है।

मनरेगा मजदूरी दर का उद्देश्य

नरेगा योजना का मुख्य उद्देश्य नागरिकों को रोजगार प्रदान करना है। इस योजना से देश के गरीब नागरिकों की स्थिती में सुधार होगा। जो लोग इस योजना में काम करते है उनको प्रतिदिन के हिसाब से मजदूरी दी जाती है। लाभार्थी की राशि का उपयोग करके अपने घर के लिए जरूरी सामान खरीद सकता है।

योजना के तहत दी जाने वाली यह राशि प्रतेक 15 में लाभार्थी के बैंक खाते में सीधे ट्रांसफर कर दी जाती है। इसलिए आपके पास बैंक खाता होना जरूरी है। नरेगा में काम करने वालों को रोज मनरेगा में कार्य के लिए जाना होता है। उसके बाद आपकी कितनी हाजिरी हुई है उस हिसाब से आपको यह राशि मिल जाती है।

राज्यों के अनुसार मनरेगा मजदूरी दर

नीचे तालिका में सभी राज्यों की सूची दी गई है आप जिस राज्य से है उस हिसाब से अपने राज्य में दर चैक कर सकते हैं :

राज्यमनरेगा दर
छत्तीसगढ़243.00 रु.
पंजाब322.00 रु.
गुजरात280.00 रु.
महाराष्ट्र297.00 रु.
झारखंड245.00 रु.
मिजोरम266.00 रु.
मेघालय254.00 रु.
बिहार245.00 रु.
आंध्र प्रदेश300.00 रु.
मध्य प्रदेश243.00रु.
नागालैंड234.00 रु.
उत्तराखंड237.00 रु.
हरियाणा374.00 रु.
उड़ीसा254.00 रु.
उत्तर प्रदेश237.00 रु.
सिक्किम

सिक्किम (3 ग्राम पंचायतें – ज्ञानथांग, लाचुंग, लाचेन)
249.00 रु.

374.00 रु.
राजस्थान266.00 रु.
तमिल नाडू319.00 रु.
असम249.00 रु.
पश्चिम बंगाल250.00 रु.
हिमाचल प्रदेशगैर अनुसूचित क्षेत्र – 236.00 रु.
अनुसूचित क्षेत्र – 295.00 रु.
त्रिपुरा242.00 रु.
जम्मू और कश्मीर259.00 रु.
मणिपुर272.00 रु.
अंडमान और निकोबारअंडमान जिला – 329.00 रु.
निकोबार जिला – 347.00 रु.
लक्षद्वीप304.00 रु.
दादर और नगर हवेली तथा दमन और दिउ324.00 रु.
गोवा356.00 रु.
कर्नाटक349.00 रु.
अरुणाचल प्रदेश234.00 रु.
पुडुचेरी294.00 रु.
केरल346.00 रु.
लद्दाख259.00 रु.
तेलंगाना300.00 रु.

अगर आपको मनरेगा मजदूरी दर की पीडीएफ डाउनलोड करनी है तो आप इसे ग्रामीण विकास मंत्रालय भारत सरकार की ऑफिशियल वेबसाइट से डाउनलोड कर सकते है। अगर आपको कभी भी लगे की आपके खाते में नरेगा का पैसा कम आया है तो आप बैंक में जाकर इसकी जानकारी ले सकते है और उनको बता सकते है को आपके राज्य में नरेगा की दर क्या है। अन्य जानकारी के लिए आप नरेगा की हेल्पलाइन नंबर पर संपर्क कर सकते है।

Leave a Comment